प्रतिक्रिया | Friday, July 19, 2024

20/06/24 | 11:17 pm

प्रधानमंत्री मोदी ने ‘युवाओं को सशक्त बनाना, जम्मू-कश्मीर में बदलाव लाना’ कार्यक्रम को संबोधित किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज (गुरुवार) जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र (एसकेआईसीसी) में ‘युवाओं को सशक्त बनाना, जम्मू-कश्मीर में बदलाव लाना’ कार्यक्रम को संबोधित किया।

पीएम ने जम्मू-कश्मीर में सड़क, जलापूर्ति और उच्च शिक्षा में अवसंरचना क्षेत्र सहित 1,500 करोड़ रुपये से भी अधिक की लागत वाली कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। उन्होंने 1,800 करोड़ रुपये की लागत वाली कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धात्मकता वृद्धि परियोजना (जेकेसीआईपी) का भी शुभारंभ किया।

इस दौरान जी-7 शिखर सम्मेलन के लिए इटली की अपनी हालिया यात्रा को याद करते हुए प्रधानमंत्री ने सरकार के तीन कार्यकाल तक लगातार बने रहने के प्रभाव पर प्रकाश डाला क्योंकि इसने भारत के प्रति दुनिया का नजरिया बदल दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि भारतीयों की हमेशा से उच्च आकांक्षाएं ही देश की सबसे बड़ी ताकत रही हैं। उन्होंने कहा कि यह उच्च आकांक्षा सरकार से उच्च उम्मीदों को जन्म देती है और इस पृष्ठभूमि में सरकार का लगातार तीसरा कार्यकाल विशेष है क्योंकि आकांक्षी समाज का एकमात्र मापदंड बेहतरीन कार्य-प्रदर्शन है। उन्होंने कहा, “लोगों को सरकार की नीयत और नीतियों पर भरोसा है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के संविधान को आखिरकार जम्मू और कश्मीर ने सही मायनों में अपना लिया है।” उन्होंने कहा, “अनुच्छेद-370 की दीवार गिरा दी गई हैं।” प्रधानमंत्री ने पिछले 10 वर्षों में कश्मीर में हुए विकास के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि कश्मीर घाटी में हुए हाल के बदलावों को पूरी दुनिया देख रही है। जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान घाटी के लोगों के आतिथ्य की प्रशंसा की जा रही है। उन्होंने कहा कि घाटी में जी-20 शिखर सम्मेलन जैसे वैश्विक कार्यक्रम के आयोजन से कश्मीर के लोगों को गर्व महसूस हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “जम्मू-कश्मीर के लोगों द्वारा अपने प्रतिनिधि का चयन करने और उनके माध्यम से अपनी समस्याओं का समाधान करने से बेहतर क्या हो सकता है। इसलिए विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। वह दिन दूर नहीं जब आप अपने वोट से जम्मू-कश्मीर की नई सरकार चुनेंगे। वह दिन जल्द ही आएगा जब जम्मू-कश्मीर एक बार फिर एक राज्य के रूप में अपना भविष्य गढ़ेगा।”

पीएम मोदी ने 1,500 करोड़ रुपये से अधिक की प्रमुख विकास परियोजनाओं और 1,800 करोड़ रुपये की कृषि और संबद्ध क्षेत्र (जेकेसीआईपी) परियोजना का जिक्र किया, जिनका शिलान्यास अथवा उद्घाटन किया गया। उन्होंने सरकारी नौकरियों में तेजी से भर्ती के लिए केंद्र-शासित प्रदेश प्रशासन की प्रशंसा करते हुए कहा कि पिछले 5 वर्षों में लगभग 40,000 भर्तियां की गईं। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में बड़े पैमाने पर निवेश के सकारात्मक प्रभाव के बारे में भी चर्चा की।

कश्मीर में प्रगति की सराहना करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि आज घाटी में रेल संपर्क, शिक्षा, स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे, बिजली और पानी सहित लगभग हर मोर्चे पर व्यापक तौर पर विकास कार्य हो रहे हैं। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत हजारों किलोमीटर सड़कें बनाई गई हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने जोर देकर कहा कि हम जम्मू-कश्मीर द्वारा चुने गए विकास के मार्ग को और आगे लेकर जाएंगे। प्रधानमंत्री ने आज शुरू की जा रही विकास परियोजनाओं के लिए जम्मू-कश्मीर के लोगों को बधाई देते हुए अपने संबोधन का समापन किया।

इस अवसर पर जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रतापराव जाधव भी उपस्थित रहे।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 5059099
आखरी अपडेट: 19th Jul 2024