प्रतिक्रिया | Wednesday, April 24, 2024

11/01/24 | 9:57 am

पीएम मोदी और चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री ने की द्विपक्षीय बैठक, व्यापार और रक्षा क्षेत्रों में सहयोग पर हुई चर्चा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री पेट्र फियाला ने बुधवार को द्विपक्षीय बैठक की। दोनों नेताओं ने भारत और चेक गणराज्य के बीच संबंधों की समीक्षा की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। पीएम मोदी और पेट्र फियाला ने ‘वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन' से इतर द्विपक्षीय बैठक की। पीएम मोदी ने सोशल मीडिया हैंडल एक्स (x) पर एक पोस्ट में साझा करते हुए कहा कि हमने व्यापार, ऊर्जा, विज्ञान, नवाचार और रक्षा जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को गहरा करने पर चर्चा की।

 चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री पेट्र फियाला वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट-2024 में हिस्सा लेने के लिए 9 से 11 जनवरी तक भारत के दौरे पर हैं। पीएम मोदी ने 10वें वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन 2024 के मौके पर चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री से 10 जनवरी को मुलाकात की। भारत के प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) के अनुसार बैठक में दोनों नेताओं ने मुख्य तौर पर ज्ञान, प्रौद्योगिकी और वैज्ञानिक क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की हैं। पीएम मोदी ने सोशल मीडिया हैंडल एक्स (x) पर एक पोस्ट में कहा कि हमने व्यापार, ऊर्जा, विज्ञान, नवाचार और रक्षा जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को गहरा करने पर चर्चा की। 

https://x.com/narendramodi/status/1745100566219608475?s=20

इसके बाद एक संयुक्त बयान में कहा गया कई चेक कंपनियों ने मेक इन इंडिया पहल के अंतर्गत रक्षा, रेलवे और विमानन क्षेत्रों में भारतीय निर्माताओं के साथ साझेदारी की है। पीएम मोदी ने इस बात पर भी महत्व दिया कि भारत की ग्रोथ स्टोरी और चेक गणराज्य का मजबूत औद्योगिक आधार मिलकर इन्हें ग्लोबल सप्लाई चेन के लिहाज से दो आदर्श भागीदार बनाते हैं। हमने व्यापार, ऊर्जा, विज्ञान, नवाचार और रक्षा जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को गहरा करने पर चर्चा की हैं। 

दोनों नेताओं ने भारत-चेक द्विपक्षीय संबंधों में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि के रूप में नवाचार को लेकर भारत-चेक रणनीतिक साझेदारी पर संयुक्त वक्तव्य का भी स्वागत किया। इस संयुक्त वक्तव्य का उद्देश्य स्टार्ट-अप और नवाचार, साइबर-सुरक्षा, डिजिटल डोमेन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रक्षा, परमाणु ऊर्जा और सर्कुलर अर्थव्यवस्था जैसे क्षेत्रों में दोनों देशों की सहयोग भरी विशेषज्ञता का लाभ उठाना है।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 902052
आखरी अपडेट: 23rd Apr 2024