प्रतिक्रिया | Monday, April 22, 2024

06/12/23 | 3:21 pm

पीएम मोदी ने चक्रवात मिचौंग से हुई जान-माल की हानि पर जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चक्रवात मिचौंग के कारण विशेषकर तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी में हुई जानमाल की हानि पर गहरा दुख व्यक्त किया है। पीएम मोदी ने इस चक्रवात में घायल या इससे प्रभावित होने वाले लोगों के लिए भी प्रार्थना की और अधिकारी प्रभावित लोगों की सहायता के लिए जमीनी स्‍तर पर अथक प्रयास कर रहे हैं और स्थिति पूरी तरह से सामान्य होने तक वे अपना काम जारी रखेंगे।

पीएम मोदी ने सोशल मीडिया चैनल एक्स पर एक पोस्ट में कहा है, “मेरी संवेदनाएं उन परिवारों के साथ हैं, जिन्‍होंने चक्रवात मिचौंग के कारण विशेष तौर पर तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी में अपने प्रियजनों को खो दिया है। मेरी प्रार्थनाएं इस चक्रवात में घायल या इससे प्रभावित लोगों के साथ हैं। अधिकारी प्रभावित लोगों की सहायता के लिए जमीनी स्‍तर पर अथक प्रयास कर रहे हैं और स्थिति पूरी तरह सामान्य होने तक वे अपना काम जारी रखेंगे।''

https://x.com/narendramodi/status/1732293013152604218?s=20

बता दें कि चक्रवात के कारण हुई भारी बारिश के कारण आंध्र प्रदेश के तिरुपति जिले में नदियाँ, नाले और नहरें उफान पर हैं। चक्रवात मिचौंग के प्रभाव से लगातार तीन दिनों तक हुई बारिश ने तबाही मचा दी है। भीषण आंधी के साथ भारी बारिश के कारण सड़कों और रिहायशी इलाकों में पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने 5 दिसंबर को जिला अधिकारियों के साथ चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव अभियान की समीक्षा की। उन्होंने तेजी से बिजली आपूर्ति बहाल करने, लोगों और पशुओं के मारे जाने पर 48 घंटे के भीतर मुआवजा देने का निर्देश दिया। राज्य सूचना विभाग ने कहा कि तत्काल कार्रवाई के लिए 22 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं। इस बीच, अनाकापल्ली जिले में 52 पुनर्वास केंद्र तैयार किए गए हैं और 60,000 से अधिक लोगों को रखने की व्यवस्था की गई है। 
आपातकालीन आवश्यकताओं के लिए एक लाख टन अनाज खरीदा गया है और 4 लाख टन अनाज को भीगने से बचाया गया है। राज्य सरकार ने शरणार्थियों के लिए 1000 से 2500 रुपये तक की सहायता की घोषणा की। मकान गिरने या नुकसान होने पर मुआवजा 8000 से बढ़ाकर 10,000 रुपये कर दिया गया है।

चक्रवात कमजोर हो चला है

आज (6 दिसंबर) मौसम विभाग ने कहा कि चक्रवात कमजोर हो चला है और इसके प्रभाव से बहुत अधिक जान माल का नुकसान अब नहीं होगा। हालांकि अभी भी इसके असर से भारत के दक्षिणी तटीय राज्यों में बारिश आज तक जारी रह सकती है। 

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 862287
आखरी अपडेट: 22nd Apr 2024