प्रतिक्रिया | Monday, April 22, 2024

25/12/23 | 5:07 pm

सूरत हवाई अड्डे के नए टर्मिनल से हुई घरेलू उड़ानों की शुरुआत,दिल्ली और हैदराबाद के लिए भरी गई उड़ानें

सूरत अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे ने सोमवार को दिल्ली और हैदराबाद से दो उड़ानों के साथ अपने नए टर्मिनल से घरेलू उड़ानों का संचालन शुरू कर दिया है। बता दें कि इंडिगो ने सूरत को दिल्ली और हैदराबाद से जोड़ने वाली घरेलू उड़ानें संचालित कर रही है,जो हवाई अड्डे के परिचालन के इतिहास में एक महत्वपूर्ण अध्याय की शुरुआत है। पहली उड़ान 177 यात्रियों के साथ दिल्ली से आई और 161 यात्रियों के साथ वापस रवाना हुई।

इसी तरह दूसरी फ्लाइट 180 यात्रियों के साथ हैदराबाद से आई और सूरत से लगभग इतने ही यात्रियों को लेकर रवाना हुई। इस अवसर दीप प्रज्ज्वलन किया गया, जिसमें सूरत हवाई अड्डे के निदेशक रूपेश कुमार हवाई अड्डे के कर्मचारी और एयरलाइन अधिकारी शामिल हुए। उन्होंने कहा सूरत में एक बड़े हवाई अड्डे की आवश्यकता थी। यह मांग लम्बे समय से चली आ रही थी, जिसका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 17 दिसंबर को उद्घाटन किया गया। 

353 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित है ये टर्मिनल 

सूरत शहर भारत के साथ-साथ दुनिया के सबसे तेजी से विकसित होने वाले शहरों में से एक है। इस नए टर्मिनल को करीब 353 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया गया है। सूरत हवाईअड्डे के इस नए टर्मिनल से प्रतिदिन 11 उड़ानों का संचालित की जाएंगी। सूरत वर्तमान में 14 घरेलू शहरों से जुड़ा है जिनमें दिल्ली,चेन्नई,बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, गोवा, मोपा, बेलगाम, पुणे, जयपुर,उदयपुर, इंदौर जैसे शहर शामिल हैं। 

अत्याधुनिक सुविधाओं एवं स्थानीय संस्कृति से युक्त है यह टर्मिनल 

सूरत हवाई अड्डे का रनवे 2906 X 45 मीटर है जो कोड 'सी' प्रकार के विमानों को संचालित करने में सक्षम है।  8474 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला है। नए टर्मिनल भवन में  पीक आवर के दौरान 1,200 घरेलू यात्रियों और 600 अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों को संभालने की क्षमता है। पीक आवर की क्षमता को 3,000 यात्रियों तक बढ़ाने का प्रावधान है, साथ ही वार्षिक हैंडलिंग क्षमता 55 लाख यात्रियों तक किया जाएगा । टर्मिनल भवन एक तरह से  सूरत शहर का प्रवेश द्वार है, इसे स्थानीय संस्कृति और विरासत को ध्यान में रखते हुए डिजाइन किया गया है। नया हवाईअड्डा टर्मिनल विभिन्न सुविधाओं से सुसज्जित है जिसमें एक इंसुलेटेड छत प्रणाली, ऊर्जा बचत के लिए कैनोपी, एक हीट गेन डबल ग्लेजिंग यूनिट, वर्षा जल संचयन, एक जल उपचार संयंत्र, एक सीवेज उपचार संयंत्र और भूनिर्माण और सौर ऊर्जा के लिए पुनर्नवीनीकरण पानी का उपयोग शामिल है ।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 860397
आखरी अपडेट: 22nd Apr 2024