प्रतिक्रिया | Wednesday, July 24, 2024

‘कृषि सखी योजना’ के तहत 1 करोड़ लखपति दीदी तैयार, 12 राज्यों में कृषि सखी कार्यक्रम की शुरूआत

देश के 12 राज्यों में कृषि सखी कार्यक्रम की शुरूआत कर दी गई है। गुजरात, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, झारखंड, मेघालय, राजस्थान, महाराष्ट्र में फिलहाल यह कार्यक्रम शुरू किया गया है। इस संकल्प के तहत एक करोड़ लखपति दीदी बन चुकी हैं। महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए कृषि और ग्रामीण विकास मंत्रालय मिलकर इस कार्यक्रम को चलाएंगे। दोनों मंत्रालयों ने एक समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किया है। 

पीएम मोदी का 3 करोड़ लखपति दीदी बनाने का संकल्प

कृषि मंत्रालय ने आज (मंगलवार) एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का तीन करोड़ लखपति दीदी बनाने का संकल्प है। इस संकल्प के तहत एक करोड़ लखपति दीदी बन चुकी हैं, 2 करोड़ और लखपति दीदी बनानी हैं। किसानों की सहायता के लिए ग्रामीण इलाके की बहनों को प्रशिक्षण देकर कृषि सखी तैयार करना है। वो खेती में अलग-अलग कामों के माध्यम से किसानों का सहयोग कर 60-80 हजार रुपये तक की सालाना अतिरिक्त आय अर्जित करने में सक्षम होंगी। दरअसल, कृषि में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका और योगदान को महसूस करते हुए और ग्रामीण महिलाओं के कौशल को बढ़ावा देने के लिए , कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय और ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 30 अगस्त 2023 को एक एमओयू (MOU) पर हस्ताक्षर किए थे। कृषि सखी सर्टिफिकेशन कार्यक्रम इस समझौता ज्ञापन के तहत एक महत्वाकांक्षी पहल है।

कृषि सखियों को विभिन्न कृषि पद्धतियों के बारे में दिया जाता है व्यापक प्रशिक्षण

बता दें, कृषि सखी कार्यक्रम के तहत आज तक 34,000 से अधिक कृषि सखियों को पैरा-एक्सटेंशन वर्कर के रूप में प्रमाणित किया जा चुका है। कृषि सखियों को कृषि पैरा-विस्तार कार्यकर्ताओं के रूप में इसलिए चुना जाता है, क्योंकि वे गांव की ही हैं और उन्हें खेती की जानकारी होती है। कृषि सखियों को विभिन्न कृषि पद्धतियों के बारे में व्यापक प्रशिक्षण दिया जाता है, जिससे वे साथी किसानों को प्रभावी ढंग से सहायता और मार्गदर्शन देने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित हैं।

70,000 कृषि सखियों को प्रशिक्षण देने का उद्देश्य रखा गया है

एक साल पहले कृषि सखी प्रशिक्षण कार्यक्रम दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत शुरू किया गया। इसके तहत 70,000 कृषि सखियों को प्रशिक्षण देने का उद्देश्य रखा गया। अब तक 34,000 सखियां प्रमाण पत्र लेकर काम शुरू करेंगी। गौरतलब है कि पीएम मोदी कृषि सखियों के रूप में 30,000 से अधिक स्वयं सहायता समूहों को प्रमाण पत्र प्रदान करने के लिए आज 18 जून को वाराणसी के दौरे पर हैं। देश भर से लगभग 2.5 करोड़ किसान इस कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 5333451
आखरी अपडेट: 23rd Jul 2024