प्रतिक्रिया | Tuesday, April 16, 2024

02/11/23 | 7:59 pm

AI को अच्छाई का प्रतिनिधित्व करने के लिए सोशल मीडिया के ज़हरीलेपन से बचना चाहिए: राजीव चंद्रशेखर 

केंद्रीय आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने बुधवार को कहा कि भारत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में टेक्नोलॉजी को प्रभावी ढंग से अपनाया है, जिससे देश एक समृद्ध डिजिटल अर्थव्यवस्था में बदल गया है, और देश के नागरिकों के जीवन में बदलाव आया है। इस परिवर्तन ने जबरदस्त अवसरों की शुरुआत की है और आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस (एआई) के माध्यम से ऐसा करना जारी रहेगा। 

कल (1 नवंबर) लंदन के पास बकिंघमशायर के बैलेचले पार्क में 'आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस सुरक्षा सम्मेलन 2023'  के उद्घाटन पूर्ण सत्र को संबोधित करते हुए, केंद्रीय आईटी चंद्रशेखर मंत्री ने आर्थिक विकास की प्रेरक शक्ति के रूप में नवीन टेक्नोलॉजी  के लिए सरकार के विज़न को अंतर्राष्ट्रीय समकक्षों के सामने रखा। उन्होंने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर भारत के विज़न  पर बल देते हुए सुरक्षा, भरोसा और दायित्व पर प्रमुख ध्यान देने के साथ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रति  भारत की प्रतिबद्धता पर जोर दिया। इस समिट का उद्देश्य AI से जुड़े जोखिमों पर विचार-विमर्श करना, विशेष रूप से इसके विकास के अत्याधुनिक स्तर पर और विश्व स्तर पर समन्वित प्रयासों के माध्यम से उनके शमन के लिए रणनीतियों की खोज करना है। 

आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस सुरक्षा सम्मेलन 2023 में सरकारों, प्रमुख आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस संगठनों, नागरिक समाज संगठनों और अनुसंधान विशेषज्ञों सहित दुनिया भर के प्रतिनिधि शामिल हुए। इस दो दिवसीय शिखर सम्मेलन में ब्रिटेन, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इंडोनेशिया, आयरलैंड, इटली, केन्या, सऊदी अरब, नीदरलैंड और दक्षिण कोरिया सहित विभिन्न देशों के मंत्री और प्रतिनिधि सम्मिलित हुए ।

 टेक्नोलॉजी और नवाचार के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग जरुरी 

अपने संबोधन में आईटी मंत्री ने कहा, “हमने यह सुनिश्चित किया है कि इस तरह के अंतर्राष्ट्रीय सहयोग अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि हम एक ऐसे युग में प्रौद्योगिकी के भविष्य को साकार करने के लिए आगे बढ़ रहे हैं जहां यह मानव जाति के लिए अब तक के सबसे रोमांचक अवसरों में से कुछ अवसर प्रस्तुत कर रहा है। पीएम् मोदी ने कई वर्षों से इस बात की हिमायत की है कि प्रौद्योगिकी का भविष्य, चाहे इसमें नवाचार, साझेदारी, या सभी मानव जाति के लाभ के लिए टेक्नोलॉजी और नवाचार को विनियमित करने के लिए संस्थागत ढांचा शामिल हो और यह सिर्फ एक या दो देशों के बजाय विभिन्न राष्ट्रों के गठबंधन द्वारा संचालित होना चाहिए।”

 आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) सभी देशों में नागरिकों की भलाई, प्रगति और समृद्धि के लिए 

उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हमारे लिए बड़े अवसरों का प्रतिनिधित्व करता है और हमारे मस्तिष्क में यह स्पष्ट है कि AI  या किसी भी उभरती हुई प्रौद्योगिकी से जुड़े किसी भी संभावित नकारात्मक पहलू को कम करने के लिए क्या किया जाना चाहिए। हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को खुलेपन, सुरक्षा, भरोसा और दायित्व की दृष्टि से देखते हैं। 

राजीव चंद्रशेखर ने आगे कहा कि एक सरकार के रूप में, हमने सीखा है कि विनियमन से आगे नवाचार को अनुमति देकर, हम आज इंटरनेट पर सोशल मीडिया द्वारा प्रस्तुत ज़हरीली और गलत सूचना के प्रति खुद को खुला रखते हैं। यह स्पष्ट है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के संदर्भ में हमें आने वाले वर्षों के लिए यह रास्ता नहीं अपनाना चाहिए। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग सभी देशों में हमारे सभी नागरिकों की केवल भलाई के लिए, प्रगति और समृद्धि के लिए किया जाना चाहिए।”

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 707911
आखरी अपडेट: 16th Apr 2024