प्रतिक्रिया | Monday, April 22, 2024

16/11/23 | 10:57 am

APEC नेताओं की तीन दिवसीय बैठक के लिए सैन फ्रांसिस्को पहुंचे जस्टिन ट्रूडो

संयुक्त राज्य अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग (APEC) समूह की बैठक चल रही है, 11 नवंबर को शुरू हुई इस समूह की बैठक 17 नवंबर को इकोनॉमिक लीडर्स रिट्रीट के साथ समाप्त होगी। कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो सैन फ्रांसिस्को में एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग में साथी नेताओं के साथ तीन दिवसीय बैठक शुरू करने के लिए बुधवार (15 नवंबर) को उत्तरी कैलिफोर्निया पहुंचे। 

कनाडा के प्रधान मंत्री कार्यालय के एक बयान के अनुसार जस्टिन ट्रूडो ने 8 नवंबर को घोषणा की थी कि वह 15 से 17 नवंबर, 2023 तक सैन फ्रांसिस्को, संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा करेंगे और एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपीईसी) नेताओं की बैठक में भाग लेंगे। एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग शिखर सम्मेलन की मेजबानी अमेरिका कर रहा है। 

कनाडा की समृद्धि मुक्त और खुले व्यापार और निवेश पर आधारित है। सैन फ्रांसिस्को में जस्टिन ट्रूडो APEC अर्थव्यवस्थाओं के बीच सहयोग को आगे बढ़ाएंगे जो मध्यम वर्ग की नौकरियां पैदा करता है, प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ाता है और जलवायु परिवर्तन से लड़ने में मदद करता है। प्रधान मंत्री कार्यालय के एक बयान से पता चलता है कि ट्रूडो कैनेडा के सहयोगियों और भागीदारों के साथ जलवायु-अनुकूल आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के तरीकों पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

क्या है APEC ?

बता दें कि APEC कनाडा के लिए एशिया-प्रशांत क्षेत्र में स्वतंत्र, निष्पक्ष और खुले व्यापार और निवेश को बढ़ावा देने और समावेशी और सतत विकास को आगे बढ़ाने के लिए आर्थिक नीतियों को आगे बढ़ाने का एक प्रमुख मंच है। एक क्षेत्रीय आर्थिक मंच APEC की स्थापना वर्ष 1989 में हुई थी, इस समूह का उद्देश्य एशिया-प्रशांत की बढ़ती निर्भरता का लाभ उठाना और क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण के माध्यम से क्षेत्र को समृद्ध बनाना है। इसमें 21 सदस्य देश हैं, इसमें ऑस्ट्रेलिया, ब्रुनेई, न्यूजीलैंड, पापुआ न्यू गिनी, फिलीपींस, इंडोनेशिया, मलेशिया, वियतनाम, सिंगापुर, थाईलैंड, जापान, दक्षिण कोरिया, रूस, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका, मैक्सिको, पेरू और चिली हैं। इस समूह में ताइवान और हांगकांग भी शामिल हैं जो चीन से अलग आजाद तौर पर इसके शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेते हैं। 

एशिया-प्रशांत क्षेत्र में प्रमुख आर्थिक मंच

यह 8वीं बार है जब प्रधान मंत्री ट्रूडो APEC आर्थिक नेताओं की बैठक में भाग लेंगे। कनाडा APEC का संस्थापक सदस्य है। 1989 में अपनी स्थापना के बाद से, APEC एशिया-प्रशांत क्षेत्र में प्रमुख आर्थिक मंच बन गया है। 

क्या है खास इस बार के समिट में ?

मीडिया के अनुसार APEC शिखर सम्मेलन में इस बार सबसे खास अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मुलाकात है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कल बुधवार (15 नवंबर) को एक साल में पहली बार चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात की। इस बैठक में सैन्य संघर्ष, नशीली दवाओं की तस्करी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर दोनों देशों के बीच टेंशन कम करने पर चर्चा हुई। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन, एक साल के अंतरराष्ट्रीय तनाव को कम करने के प्रयास में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बैठे थे, इस बैठक को व्यापक रूप से शिखर सम्मेलन के केंद्र बिंदु के रूप में देखा गया था। रिपोर्टों से पता चलता है कि दोनों नेता द्विपक्षीय सैन्य संचार को फिर से शुरू करने और कृत्रिम बुद्धिमत्ता को अपने संबंधित परमाणु रक्षा प्रणालियों से दूर रखने के लिए एक समझौते पर काम कर रहे थे। यह मीटिंग  दोनों देशों के बीच लगातार बढ़ रहे तनाव को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगी। आज 16 नवंबर को जिनपिंग एशिया पेसिफिक इकोनॉमिक को-ऑपरेशन (APEC) फॉरम के शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे।  

पीयूष गोयल लेंगे शिखर सम्मेलन में भाग 

भारत को 30वें APEC इकोनॉमिक लीडर्स सम्मेलन में आमंत्रित किया गया है, हालांकि भारत समूह का सदस्य नहीं है। भारत के केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। ये बैठकें व्यापार बाधाओं को दूर करने, निवेश को बढ़ावा देने टेक्नोलॉजी और नवाचार जैसे क्षेत्रों में अधिक सहयोग को बढ़ावा देने पर केंद्रित होंगी।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 862197
आखरी अपडेट: 22nd Apr 2024