प्रतिक्रिया | Wednesday, May 22, 2024

 

 

हमारे देश में एक बड़ी आबादी की सुबह चाय या कॉफी के साथ होती है। लेकिन यह स्वास्थ्य के लिए कितना सही इस बारे में आईसीएमआर ने एक स्टडी की है। आईसीएमआर ने एक रिसर्च में भोजन से पहले या बाद में चाय या कॉफी के सेवन के खिलाफ अलर्ट किया है। इस नई एडवाइजरी का उद्देश्य गलत धारणाओं को दूर करना और चाय-कॉफी या अन्य लोकप्रिय पेय पदार्थों से जुड़े संभावित स्वास्थ्य जोखिमों को उजागर करना है।
दरअसल, आमतौर पर कई भारतीय परिवारों ने चाय या कॉफी को अपने भोजन की दिनचर्या में शामिल किया है, अक्सर उनका मानना है कि यह पाचन में सहायता करता है या गले और छाती से अत्यधिक तेल को साफ करने में मदद करता है।

चाय या कॉफी की खपत पर आईसीएमआर दिशा निर्देश
चाय और कॉफी लोकप्रिय पेय पदार्थ हैं जो अपनी कैफीन सामग्री के लिए जाने जाते हैं। एक कप (150 मिली) ब्रूड कॉफी में आमतौर पर 80-120 मिलीग्राम कैफीन होता है, जबकि इंस्टेंट कॉफी में 50-65 मिलीग्राम होता है। दूसरी ओर चाय में प्रति कप लगभग 30-65 मिलीग्राम कैफीन होता है। कैफीन के स्तर में ये भिन्नताएं स्वास्थ्य पर संभावित प्रतिकूल प्रभावों से बचने के लिए खपत में संयम के महत्व को उजागर करती हैं। 300 मिलीग्राम कैफीन एक व्यक्ति एक दिन में बर्दाश्त कर सकता है। इससे ऊपर शरीर के लिए ये हानिकारक हो सकता है।

खाने के पहले और बाद एक घंटे तक’ चाय या कॉफी से परहेज
एमआर द्वारा जारी संशोधित ‘भारतीयों के लिए आहार दिशा निर्देश’ के अनुसार, चाय और कॉफी में टैनिन होते हैं जो आयरन के अवशोषण में बाधा डाल सकते हैं। चूंकि आयरन रक्त उत्पादन के लिए आवश्यक है, इससे शरीर में खून में आयरन जा ही नहीं पाता है और आयरन हीमोग्लोबिन बनाने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इसकी कमी के कारण एनीमिया हो सकता है। इसलिए आयरन अवशोषण सुनिश्चित करने और संभावित स्वास्थ्य जटिलताओं को रोकने के लिए ‘भोजन से पहले और बाद में कम से कम एक घंटे तक’ चाय या कॉफी से परहेज करने की सलाह देते हैं।

बिना दूध वाली चाय के सेवन का महत्व
इसके अलावा दिशा निर्देश बिना दूध वाली चाय के सेवन के महत्व पर जोर दिया गया है, खासकर उन लोगों के लिए जो ग्रीन या ब्लैक चाय लेते हैं। चाय में थियोब्रोमाइन और थियोफिलाइन जैसे यौगिक होते हैं, जो रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देते हैं और कोरोनरी हृदय रोग और पेट के कैंसर के खतरे को कम करने जैसे संभावित स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। ये लाभ तब सर्वोत्तम प्राप्त होते हैं जब चाय का सेवन बिना दूध के और कम मात्रा में किया जाता है।

इसके साथ ही भोजन के दौरान चाय या कॉफी के सेवन के प्रति सावधानी बरतने के अलावा, दिशा निर्देश में फलों, सब्जियों, साबुत अनाज, कम वसा वाले मांस और समुद्री भोजन से भरपूर विविध आहार पर जो दिया गया है। इन अनुशंसाओं का पालन करके, व्यक्ति जिम्मेदारी से अपने पसंदीदा पेय पदार्थों का आनंद लेते हुए अपने स्वास्थ्य और कल्याण को प्राथमिकता दे सकते हैं

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 1868555
आखरी अपडेट: 22nd May 2024