प्रतिक्रिया | Monday, July 15, 2024

केंद्रीय बजट 2024-2025 से पहले SBI रिसर्च ने दिया सुझाव, राजकोषीय घाटा और GDP को लेकर जानें क्या कहा

 

 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 23 जुलाई 2024 को नई सरकार का पहला बजट पेश करेंगी। इस बीच बजट तैयार करने की प्रक्रिया के तहत वित्त मंत्री ने उद्योग जगत और सामाजिक क्षेत्र के प्रतिनिधियों सहित विभिन्न संबंधित लोगों के साथ विचार-विमर्श भी किया। इसी क्रम में 23 जुलाई को पेश किए जाने वाले बहुप्रतीक्षित पूर्ण बजट 2024-25 से पहले एसबीआई रिसर्च ने मोदी 3.0 के तहत पहला बजट को लेकर सुझाव दिया। एसबीआई रिसर्च के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को राजकोषीय विवेक पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और राजकोषीय समेकन पथ पर आगे बढ़ना चाहिए।

 

सरकार के कुल राजस्व और कुल व्यय के बीच के अंतर को राजकोषीय घाटा कहा जाता है। यह सरकार द्वारा आवश्यक कुल उधारी का संकेत है। एसबीआई रिसर्च ने सुझाव दिया कि सरकार को 4.9 प्रतिशत के राजकोषीय घाटे का लक्ष्य रखना चाहिए, लेकिन उसे राजकोषीय रुख पर बहुत अधिक ध्यान नहीं देना चाहिए। सरकार का इरादा वित्तीय वर्ष 2025-26 तक राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद के 4.5 प्रतिशत से नीचे लाने का है।

इस साल की शुरुआत में अंतरिम बजट में सरकार ने 2024-25 के लिए सकल घरेलू उत्पाद के 5.1 प्रतिशत के राजकोषीय घाटे का लक्ष्य रखा है। हालांकि, पीएसयू और आरबीआई से उच्च लाभांश के साथ-साथ जीएसटी राजस्व में शानदार वृद्धि के कारण, एसबीआई रिसर्च का मानना ​​है कि सरकार 2024-25 के लिए 5 प्रतिशत से कम राजकोषीय घाटे का बजट बना सकती है – शायद 4.9 प्रतिशत।
एसबीआई रिसर्च रिपोर्ट, जिसे एसबीआई के समूह मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्य कांति घोष ने लिखा और नेतृत्व किया, उसमें कहा गया है, “जैसे-जैसे बजटीय राजकोषीय घाटा कम होता जाएगा, सरकार की सकल बाजार उधारी भी अंतरिम बजट में 14.1 लाख करोड़ रुपये की तुलना में वित्त वर्ष 25 में घटकर लगभग 13.5 लाख करोड़ रुपये रह जाएगी और शुद्ध बाजार उधारी 11.8 लाख करोड़ रुपये के मुकाबले 11.1 लाख करोड़ रुपये हो जाएगी।” इसमें कहा गया है, “भारत के वैश्विक बॉन्ड सूचकांकों में शामिल होने के साथ-साथ यील्ड कर्व मूवमेंट स्थिर रहेंगे।”

सरकार ने 2023-24 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 5.9 प्रतिशत रखा था। बाद में इसे घटाकर 5.8 प्रतिशत कर दिया गया। 1 फरवरी को पेश किए गए अंतरिम बजट में लोकसभा चुनावों के बाद सरकार बनने तक की अवधि की वित्तीय जरूरतों का ख्याल रखा गया था, जिसके बाद जुलाई में नई सरकार द्वारा पूर्ण बजट पेश किया जाना था।

वहीं इस आगामी बजट प्रस्तुति के साथ, वित्त मंत्री सीतारमण ने पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई द्वारा बनाए गए रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया, जिन्होंने वित्त मंत्री के रूप में 1959 और 1964 के बीच पांच वार्षिक बजट और एक अंतरिम बजट पेश किया था। सीतारमण का आगामी बजट भाषण उनका छठा बजट होगा। सरकार ने शनिवार को संसद के बजट सत्र की तारीखों की घोषणा की जो 22 जुलाई से शुरू होगा और 12 अगस्त को समाप्त होगा।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 4863709
आखरी अपडेट: 15th Jul 2024