प्रतिक्रिया | Friday, July 19, 2024

03/07/24 | 9:58 pm

संसद के दोनों सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, किरेन रिजीजु ने प्रस्तुत किया सत्र की कार्यवाही का विवरण

18वीं लोकसभा के लिए हुए आम चुनावों के बाद, लोकसभा का पहला सत्र और राज्यसभा का 264वां सत्र क्रमशः 24 और 27 जून से बुलाया गया था। लोकसभा को कल (मंगलवार) 2 जुलाई, 2024 को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया, जबकि राज्यसभा को आज (बुधवार) 3 जुलाई, 2024 को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है।

आज नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री किरेन रिजीजु ने संसद के इस सत्र की कार्यवाही का विवरण प्रस्तुत किया। लोकसभा में पहले दो दिन 18वीं लोकसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों के शपथ के लिए रिजर्व थे। इस दौरान कुल 542 सदस्यों में से 539 ने शपथ ली।

भारत की राष्ट्रपति ने संविधान के अनुच्छेद 95(1) के तहत भर्तृहरि मेहताब को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया तथा सुरेश कोडिकुन्निल, राधा मोहन सिंह, फग्गन सिंह कुलस्ते, टी.आर. बालू और सुदीप बंद्योपाध्याय को ऐसे व्यक्तियों के रूप में नियुक्त किया, जिनके समक्ष सदस्य संविधान के अनुच्छेद 99 के तहत शपथ ले सकते हैं और उन पर हस्ताक्षर कर सकते हैं।

26 जून को लोकसभा के अध्यक्ष का चुनाव हुआ और ओम बिरला को ध्वनि मत से अध्यक्ष चुना गया। इसी दिन, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोकसभा में अपने मंत्रिपरिषद का परिचय कराया। 27 जून को राष्ट्रपति ने संविधान के अनुच्छेद 87 के तहत संसद के दोनों सदनों के संयुक्त सत्र को संबोधित किया, जिसमें सरकार की पिछली उपलब्धियों का ब्यौरा दिया गया और साथ ही राष्ट्र के भविष्य के विकास के लिए रोडमैप का भी विवरण दिया गया।

27 जून को प्रधानमंत्री ने अपने मंत्रिपरिषद का राज्यसभा में परिचय कराया। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा 28 जून को दोनों सदनों में शुरू होनी थी। लेकिन लोकसभा में व्यवधानों के कारण इस विषय पर बहस 1 जुलाई को ही शुरू हो सकी।

सांसद अनुराग ठाकुर ने बहस की शुरुआत की, जबकि बांसुरी स्वराज ने लोकसभा में चर्चा का समर्थन किया। कुल 68 सदस्यों ने बहस में हिस्सा लिया, जबकि 50 से अधिक सदस्यों ने अपने भाषण सदन के पटल पर रखे। 2 जुलाई को 18 घंटे से अधिक चली चर्चा के बाद प्रधानमंत्री द्वारा बहस का उत्तर दिया गया। लोकसभा में लगभग 34 घंटे की अवधि में 7 बैठकें हुईं और एक दिन के व्यवधान के बावजूद उत्पादकता 105 प्रतिशत रही।

राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा 28 जून को सांसद सुधांशु त्रिवेदी द्वारा शुरू की गई, जिसका समर्थन कविता पाटीदार द्वारा किया गया। कुल 76 सदस्यों ने 21 घंटे से अधिक चली बहस में भाग लिया, जिसका उत्तर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 3 जुलाई (आज) को दिया गया। राज्यसभा की कुल उत्पादकता शत-प्रतिशत से अधिक रही।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 5073199
आखरी अपडेट: 19th Jul 2024