प्रतिक्रिया | Sunday, June 16, 2024

बंगाल की खाड़ी में बना भीषण चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ सोमवार को कमजोर पड़ गया। मौसम विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि हवा की रफ्तार 80 से 90 किलोमीटर (किमी) प्रति घंटा हो गई है। ज्ञात हो, चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ रविवार मध्यरात्रि पश्चिम बंगाल तट पर पहुंचा था।

पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में रात भर होती रही बारिश

विभाग के मुताबिक, सुबह साढ़े पांच बजे सागर द्वीप से 150 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में स्थित चक्रवाती तूफान की वजह से कोलकाता में तेज बारिश हुई और पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में रात भर बारिश होती रही।

तूफान के उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने और आगे कमजोर होने की संभावना

विभाग ने एक बुलेटिन में बताया कि तूफान के उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने और आगे कमजोर होने की संभावना है। विभाग ने बताया कि कोलकाता में रविवार को सुबह साढ़े आठ बजे से सोमवार को सुबह साढ़े पांच बजे के बीच 146 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी। 

मंगलवार सुबह तक इन इलाकों में तेज हवाओं के साथ तेज बारिश की भी संभावना

मौसम विभाग के मुताबिक, महानगर में अधिकतम हवा की गति 74 किलोमीटर प्रति घंटे दर्ज की गई, जबकि शहर के उत्तरी बाहरी इलाके दमदम में हवा की अधिकतम गति 91 किमी प्रति घंटे दर्ज की गई। मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिण बंगाल के अन्य स्थान जहां इस अवधि के दौरान भारी बारिश हुई, उनमें हल्दिया (110 मिमी), तमलुक (70 मिमी) और निमपिथ (70 मिमी) शामिल हैं।
इसी के साथ मौसम वैज्ञानिकों ने कोलकाता, नादिया और मुर्शिदाबाद सहित दक्षिणी जिलों में मंगलवार को सुबह तक तेज हवाओं के साथ-साथ एक या दो बार तेज बारिश होने की संभावना जताई है।  

भारी तबाही का दिखा मंजर

बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटों पर चक्रवाती तूफान रेमल के पहुंचने के बाद बंगाल के तटीय इलाकों में सोमवार को भारी तबाही का मंजर दिखा। तूफान के कारण बीती रात 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली थीं। रेमल ने पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में बुनियादी सरंचनाओं और संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया है। रेमल से तटीय इलाकों को हुई क्षति को साफ तौर पर देखा जा सकता है। झोपड़ियों की छत हवा में उड़ गईं। पेड़ उखड़ गए और बिजली के खंभे भी गिर गए। इसके चलते कई हिस्सों में बिजली की आपूर्ति प्रभावित हुई।

हालात सामान्य बनाने के प्रयास जारी

इस चक्रवाती तूफान ने बंगाल के सागर द्वीप और बांग्लादेश के खेपुपारा के बीच के तटीय इलाकों पर भारी तबाही मचाई। रेमल के पहुंचने की प्रक्रिया की शुरुआत रविवार रात साढ़े आठ बजे से शुरू हुई थी। फिलहाल, एनडीआरएफ की 14 टुकड़ियों की मदद से हालात को सामान्य बनाने के प्रयास जारी है। आपातकालीन सेवाएं प्रभावित क्षेत्रों में मलबा हटाने और बिजली बहाल करने के काम में जुटी हैं। (इनपुट-हिंदुस्थान समाचार)

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 3647972
आखरी अपडेट: 16th Jun 2024