प्रतिक्रिया | Friday, July 19, 2024

ब्रिटेन में आज गुरुवार को हाउस ऑफ कॉमन्स की 650 सीटों के लिए आम चुनाव शुरू होगा। इस बार ब्रिटेन की दो बड़ी पार्टियां कंजर्वेटिव और लेबर पार्टी के बीच कड़ी टक्कर की उम्मीद है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक का भविष्य दाव पर है।  

ऋषि सुनक का मुकाबला लेबर पार्टी के नेता कीर स्टारमर से

दरअसल चुनाव सर्वेक्षण में कंजर्वेटिव पार्टी के मुकाबले लेबर पार्टी को बढ़त मिली है। सुनक का मुकाबला लेबर पार्टी के नेता कीर स्टारमर से है। स्टारमर इंग्लैंड में पब्लिक प्रॉसिक्यूटर के पूर्व डॉयरेक्टर और अप्रैल 2020 से लेबर पार्टी के नेता है। 

ब्रिटेन के आम चुनाव में भारतीय मूल के वोटर की भूमिका काफी अहम 

ब्रिटेन के आम चुनाव में भारतीय मूल के वोटर काफी अहम भूमिका निभाते हैं। यही वजह है कि सत्ताधारी पार्टी कंजरवेटिव ने  इस बार 30 भारतीय मूल के लोगों को चुनावी मैदान में उतारा है। वहीं लेबर पार्टी ने 33 भारतीय मूल के नागरिकों को अपना उम्मीदवार बनाया है। 

परिणाम 5 जुलाई की सुबह होंगे घोषित 

ब्रिटेन के लोग आज स्थानीय समयानुसार सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक अपने वोट डालेंगे। मतदान खत्म होते ही मतगणना शुरू हो जाएगी। इसके पश्चात इन चुनावों के नतीजे शुक्रवार, 5 जुलाई की सुबह घोषित किए जाएंगे। 

प्रमुख पार्टियां और उम्मीदवार

चुनाव लड़ने वाली मुख्य राजनीतिक पार्टियां कंजर्वेटिव पार्टी, लेबर पार्टी, लिबरल डेमोक्रेट्स, स्कॉटिश नेशनल पार्टी (एसएनपी), प्लेड सिमरू, ग्रीन पार्टी और रिफॉर्म यूके हैं। बताना चाहेंगे कि कंजर्वेटिव 2010 से सत्ता में हैं और चुनाव के समय तक 14 साल तक शासन कर चुके होंगे।

प्रमुख उम्मीदवारों में ऋषि सुनक (कंजर्वेटिव), कीर स्टारमर (लेबर), एड डेवी (लिबरल डेमोक्रेट्स), निकोला स्टर्जन (एसएनपी) और एडम प्राइस (प्लेड सिमरू) शामिल हैं। यह चुनाव इन नेताओं और उनकी पार्टियों के लिए एक महत्वपूर्ण परीक्षा होगी।

ब्रिटेन के आम चुनाव को लेकर क्या कहते हैं जनमत सर्वेक्षण ?

रॉयटर की रिपोर्ट के अनुसार, जनमत सर्वेक्षणों से पता चलता है कि यह चुनाव ऐतिहासिक रह सकता है, जिसमें लेबर पार्टी अपने 14 साल के कार्यकाल के बाद कंज़र्वेटिव को सत्ता से हटाने के लिए तैयार है। इस बीच, दक्षिणपंथी लोकलुभावन रिफॉर्म यूके विपक्ष के लिए एक महत्वपूर्ण दावेदार के रूप में उभर रहा है। यह चुनाव देश के राजनीतिक परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण घटना बनने वाला है, जिसका भविष्य की दिशा पर बड़ा प्रभाव पड़ेगा। मतदान में सब कुछ तय हो जाएगा, लेकिन उससे पहले आपको चुनाव के दिन के बारे में ये जानना महत्वपूर्ण रहेगा:

समय, निर्वाचन क्षेत्र और मतदान प्रक्रिया

यूके का आम चुनाव गुरुवार, 4 जुलाई 2024 को होने जा रहा है, जिसमें मतदान केंद्र सुबह 7 बजे (06.00 GMT) से रात 10 बजे (21.00 GMT) तक खुले रहेंगे। 650 संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में पंजीकृत मतदाता फर्स्ट-पास्ट-द-पोस्ट (FPTP) प्रणाली का उपयोग करके संसद के सदस्यों (MP) को चुनने के लिए अपने मतपत्र डालेंगे।

FPTP प्रणाली में, प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में सबसे अधिक वोट पाने वाला उम्मीदवार MP बन जाता है, भले ही उसे 50% वोट मिले हों या नहीं। यह कई अन्य यूरोपीय देशों में उपयोग की जाने वाली आनुपातिक प्रतिनिधित्व (PR) प्रणाली से अलग है, जहां संसदीय सीटें प्रत्येक पार्टी को प्राप्त वोटों के प्रतिशत के आधार पर आवंटित की जाती हैं।

बता दें चुनाव के नतीजों में यदि कोई एक पार्टी 650 सीटों में से बहुमत लाती है, तो उसका नेता नया प्रधानमंत्री बन जाएगा। यदि किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलता है, तो संसद में अस्थिरता की घोषणा की जाएगी। इसके पश्चात सबसे बड़ी पार्टी गठबंधन सरकार बनाने का प्रयास कर सकती है।

ऋषि सुनक ने 4 जुलाई को चुनाव कराने को क्यों कहा ?

यूनाइटेड किंगडम के वर्तमान प्रधान मंत्री ऋषि सुनक ने 4 जुलाई, 2024 को अचानक आम चुनाव कराने का आह्वान किया, जबकि अगला चुनाव दिसंबर 2024 तक आवश्यक नहीं था। इस निर्णय ने राजनीतिक विश्लेषकों को हैरान कर दिया है, क्योंकि सुनक का तर्क उनके आंतरिक घेरे से बाहर के लोगों के लिए एक रहस्य बना हुआ है।

अचानक आम चुनाव कराने के निर्णय के बारे में यहां मुख्य बिंदु दिए गए हैं :

1. आर्थिक सकारात्मकता का लाभ उठाना: माना जा रहा है कि ऋषि सुनक का उद्देश्य हाल के सकारात्मक आर्थिक विकासों, जैसे कम मुद्रास्फीति और विकास की वापसी का लाभ उठाना है, ताकि कंजर्वेटिवों की चुनावी संभावनाओं को अधिकतम किया जा सके। ऐसी आशंका है कि आगे और भी कठिन आर्थिक समय आ सकता है।

2. आगे की चुनौतियों से बचना: समय से पहले चुनाव कराने को “सबसे कम बुरा विकल्प” माना गया है, ताकि संभावित बुरी खबरों से बचा जा सके, जैसे कि अधिक लोगों को उच्च बंधक भुगतान और चल रहे प्रवासी संकट का सामना करना पड़ सकता है, जिससे कंजर्वेटिवों की संभावनाओं को नुकसान हो सकता है।

3. निगेल फरेज की रिफॉर्म पार्टी से खतरा: चुनाव पहले कराने को निगेल फरेज की दक्षिणपंथी रिफॉर्म पार्टी के प्रभाव को सीमित करने के तरीके के रूप में भी देखा गया है, जो कंजर्वेटिवों से वोट छीन रही है।

4. पार्टी की आंतरिक गतिशीलता: समय से पहले चुनाव कराने का आह्वान कंजर्वेटिव पार्टी के भीतर आंतरिक संघर्षों को रोकने और टोरी सांसदों से दलबदल के प्रवाह को रोकने का एक प्रयास था।

5. सुनक के व्यक्तिगत हित: ऋषि सुनक के लिए भी यह चुनाव व्यक्तिगत रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें पार्टी नेता के पद से हटाने की मांग की जा सकती थी।

महत्वपूर्ण आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों के बीच चुनाव

यह चुनाव महत्वपूर्ण आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों के बीच हो रहा है। प्रमुख मुद्दों में जीवन यापन की उच्च लागत, एनएचएस जैसी विफल सार्वजनिक सेवाएं, बढ़ता आव्रजन और आवास की कमी शामिल हैं। उच्च मुद्रास्फीति और धीमी आर्थिक वृद्धि से प्रेरित जीवन यापन की लागत के संकट ने कई ब्रिटेनवासियों को आर्थिक रूप से बदतर महसूस कराया है।

वहीं एनएचएस लंबी प्रतीक्षा सूची और कर्मचारियों की कमी से जूझ रहा है, जो सार्वजनिक सेवा दक्षता के बारे में व्यापक चिंताओं को उजागर करता है। वहीं आव्रजन भी एक विवादास्पद मुद्दा बना हुआ है, इस पर नियंत्रण और सेवाओं तथा सामाजिक सामंजस्य पर इसके प्रभाव के बारे में बहस जारी है। आवास की एक और महत्वपूर्ण चिंता है, खासकर युवा मतदाताओं के लिए, क्योंकि संपत्ति की कीमतें और किराए बहुत अधिक हैं। ऐसे में इन चुनावों में विजेता को आगे चलकर चुनौतीपूर्ण कार्यों का भी सामना करना पड़ेगा। 

केवल इतना ही नहीं, मुद्रास्फीति से निपटने, घाटे को कम करने और सार्वजनिक सेवाओं में सुधार करने के लिए भी जद्दोजहद करनी होगी। इसके अतिरिक्त, यह 2020 में ब्रेक्सिट के बाद पहला आम चुनाव होगा और संसद के विघटन और आह्वान अधिनियम 2022 के तहत पहला चुनाव होगा, जिसने चुनाव बुलाने के लिए नए नियम पेश किए।

मतदान और अनुमान

नए सर्वेक्षणों के अनुसार, 2024 के यू.के. आम चुनाव में बहुमत जीतने के लिए लेबर स्पष्ट रूप से पसंदीदा पार्टी है। कंजर्वेटिव को पोल में रिकॉर्ड निचले स्तर का सामना करना पड़ रहा है, जिससे वे एक बहुत ही कठिन अंकगणितीय वास्तविकता में फंस गए हैं क्योंकि उनके मतदाता उन निर्वाचन क्षेत्रों में केंद्रित हैं जिन्हें वे बचाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त, रिफॉर्म यूके का उदय उन क्षेत्रों में कंजर्वेटिव के लिए और चुनौती खड़ा करेगा। (इनपुट-रॉयटर)

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 5059354
आखरी अपडेट: 19th Jul 2024