प्रतिक्रिया | Monday, July 15, 2024

गुरुदत्त की जयंती : महान फिल्म निर्माता गुरु दत्त के हिंदी सिनेमा में अमूल्य योगदान को देखने के लिए देखें ये फ़िल्में

भारतीय सिनेमा के महान फ़िल्म निर्माता गुरु दत्त अपनी गहन कहानी कहने और नवीन फिल्म निर्माण तकनीकों से पीढ़ियों को प्रेरित करते रहे हैं। हिंदी सिनेमा सुनहरे दौर की बात करें तो एक से बढ़कर एक क्लासिक फ़िल्में याद आती हैं। 50 से 60 के दशक के निर्देशकों और कलाकारों ने हिंदी सिनेमा को ऐसी फ़िल्में दीं, जिनकी वजह से आज भी इसकी चमक कायम है। ऐसे ही निर्माता-अभिनेता में शुमार हैं गुरु दत्त।

गुरु दत्त को उनके 99वें जन्मदिन (9 जुलाई) पर याद करते हुए, हम उनकी 5 सबसे सदाबहार फ़िल्मों के बारे में बताते हैं। जिन्होंने सिनेमा की दुनिया पर एक अमिट छाप छोड़ी है। गुरु दत्त की फ़िल्म ‘प्यासा’ वर्ष 1957 में आई थी। इस फ़िल्म में उनके साथ अभिनेत्री वहीदा रहमान और माला सिन्हा ने काम किया था। फ़िल्म का निर्देशन भी गुरु दत्त ने ही किया था। प्यासा फ़िल्म में उन्होंने विजय नाम के लड़के का किरदार निभाया था जो एक प्रतिभाशाली कवि है, लेकिन मतलबी दुनिया में वह खुद को अकेला महसूस करता है। उसे प्यार और प्रतिष्ठा की तलाश है।

गुरुदत्त की फ़िल्म ‘कागज़ के फूल’ हिंदी सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ रोमांटिक फ़िल्मों में से एक है। यह फ़िल्म 1959 की हिंदी फ़िल्म है। इस फ़िल्म में भी वह वहीदा रहमान के साथ नजर आए थे। इसमें उन्होंने एक मशहूर निर्देशक का किरदार निभाया था। निर्देशक एक दिन एक लड़की से टकराता है, जिसमें उसे स्टार बनने की क्षमता दिखती है। वह उसे अपनी फ़िल्म में मौका देता है। वह स्टार बन जाती है, जबकि निर्देशक का करियर गिरने लगता है। इस फ़िल्म को सिनेमास्कोप (CinemaScope) में पहली भारतीय फ़िल्म माना जाता है और दत्त की निर्देशक के रूप में अंतिम फ़िल्म। यह फ़िल्म अपने समय में एक बॉक्स ऑफिस ज्यादा चली नहीं थी। लेकिन बाद में 1980 के दशक में फ़िल्म को विश्व सिनेमा के पंथ क्लासिक के रूप में माना गया था। सबसे अहम है, कागज के फूल फ़िल्म संस्थानों में दिखायी जाती है और अक्सर इसका रेफरेंस विश्व सिनेमा में भी मिलते हैं।

फ़िल्म ‘साहब बीबी और गुलाम’ में गुरु दत्त ने भूतनाथ का किरदार निभाया था, जो अपने मालिक की पत्नी के करीब आता है और उसे पति द्वारा उसकी प्रताड़ना का अहसास कराता है। ‘साहब बीबी और गुलाम’ में गुरु दत्त और मीना कुमारी नजर आए थे। अबरार अल्वी द्वारा निर्देशित यह फ़िल्म एक मालिक, उसकी पत्नी और उसके नौकर की कहानी दिखाती है। सामंती बंगाल की पृष्ठभूमि पर आधारित, साहिब बीबी और गुलाम मानवीय इच्छाओं और सामाजिक अपेक्षाओं की जटिलताओं पर प्रकाश डालता है। गुरुदत्त के संवेदनशील निर्देशन ने शानदार प्रदर्शन किया, जिससे यह फ़िल्म जुनून, परंपरा और व्यक्तिगत मुक्ति की एक सम्मोहक खोज बन गई।

अब बात करते है, फ़िल्म ‘आर-पार’ की, अपने यादगार संवादों और थिरकाने वाले संगीत के लिए मशहूर, आर-पार एक सर्वोत्कृष्ट गुरु दत्त फ़िल्म है, जो रोमांस को अपराध के साथ सहजता से जोड़ती है। यह फ़िल्म 1954 में आई थी। इस फ़िल्म ने एक निर्देशक के रूप में उनके आगमन को चिह्नित किया, जिसमें कहानी कहने और चरित्र चित्रण की उनकी क्षमता का प्रदर्शन हुआ।

‘चौदहवीं का चांद’ 1960 में आई थी। यह रोमांटिक ड्रामा फ़िल्म लखनऊ की पृष्ठभूमि पर आधारित थी। फ़िल्म 2 सच्चे दोस्तों की कहानी थी, जो एक ही लड़की के प्यार में पड़ जाते हैं। ऐसे में फ़िल्म एक रोचक लव ट्रायंगल बन जाती है। मोहम्मद रफी का गाया हुआ गीत ‘चौदहवीं का चांद’ हिंदी के शानदार और सदाबहार गीतों में शुमार है, जिसे आज भी पसंद किया जाता है।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 4864044
आखरी अपडेट: 15th Jul 2024