प्रतिक्रिया | Wednesday, May 22, 2024

मैं मुसलमानों के प्रति प्रेम की मार्केंटिंग नहीं करता, मैं सबका साथ, सबका विकास में विश्वास करता हूं : प्रधानमंत्री मोदी

“मैं बचपन में मुस्लिम परिवारों के बीच रहा हूं, मेरे कई मुस्लिम दोस्त हैं।” यह बात भाजपा के वरिष्ठ नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को एक प्राइवेट चैनल को दिए इंटरव्यू में कही। अपने इंटरव्यू के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों की भी गलतफहमी दूर की जो उन्हें मुसलमानों का दुश्मन मानते हैं। उन्होंने कहा कि उनका शासन मॉडल धर्म या जाति के आधार पर भेदभाव नहीं करता है, जबकि 2002 के बाद उनकी छवि को खराब करने के प्रयास किए गए थे। पीएम मोदी ने बताया कि उन्होंने बचपन में अपने पड़ोसियों के साथ ईद मनाई थी। उन्होंने कहा कि मैं मुसलमानों के प्रति प्रेम की मार्केंटिंग नहीं करता।

बता दें कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दशाश्वमेध घाट और काल भैरव मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद वाराणसी लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल किया। 14 मई को जब उन्होंने अपना पर्चा दाखिल किया तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कलेक्ट्रेट में मौजूद नेताओं में शामिल थे। वाराणसी में एक निजी चैनल को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा कि मैंने न तो हिंदू कहा और न ही मुस्लिम, जिस दिन मैं हिंदू या मुस्लिम की राजनीति करना शुरू कर दूंगा, मैं सार्वजनिक डोमेन में नहीं रह पाऊंगा। मैं सभी को समान दृष्टि से देखता हूं।

दरअसल पिछले महीने राजस्थान के बांसवाड़ा में एक रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस के घोषणापत्र का हवाला देते हुए कहा था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो वह लोगों की संपत्ति मुसलमानों में बांट देगी। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने उस बयान पर सफाई दी कि कांग्रेस देश की संपत्ति ‘उन लोगों के बीच बांट देगी जिनके पास अधिक बच्चे हैं’, उन्होंने कहा कि उन्होंने केवल मुसलमानों के बारे में बात नहीं की बल्कि हर गरीब परिवार के बारे में बात की। उन्हें इस बात पर हैरानी होती है, जब ज्यादा बच्चों की बात होती है तो मुसलमान की बात जोड़ देते हैं। हमारे यहां गरीब परिवारों में भी यही हाल है।

पीएम मोदी ने कहा कि अगर लोगों को घर आवंटित किया गया तो वह किसी भी धर्म के व्यक्ति को मिलेगा। “मैं वोट बैंक के लिए काम नहीं करता। मैं सबका साथ, सबका विकास में विश्वास करता हूं।” वहीं, पीएम मोदी से जब पूछा गया कि ‘आप यह धारणा तोड़ने में सफल क्यों नहीं हो पाए कि आप मुसलमानों के खिलाफ नहीं? तो उन्होंने कहा, ‘यह एक मुसलमान का सवाल नहीं है। निजी तौर पर मुसलमान मुझे भले ही पसंद करें, लेकिन 2002 के बाद मेरी छवि खराब कर दी गई।’ पीएम मोदी ने स्पष्ट कहा कि वह मुसलमानों के प्रति प्रेम की मार्केंटिंग नहीं करते और जिस दिन हिन्दू-मुसलमान करने लगेंगे तो राजनीति छोड़ देंगे।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 1866718
आखरी अपडेट: 22nd May 2024