प्रतिक्रिया | Wednesday, May 22, 2024

Lok Sabha Election: चुनाव आयोग और मौसम विभाग ने गर्मी और लू से निपटने के लिए बैठक की

 

 

देश के कई राज्यों में गर्मी और लू का प्रकोप शुरू हो गया है। कई ऐसे शहर हैं, जहां आने वाले समय में मतदान भी होने हैं। कुछ हिस्सों में सामान्य से अधिक तापमान और लू चलने के पूर्वानुमान के बाद चुनाव आयोग ने मौसम विभाग के अधिकारियों साथ बैठक की।

बैठक में लोकसभा चुनाव के दौरान लू से होने वाले खतरे को कम करने के उपायों पर चर्चा की गई। बैठक में भारतीय मौसम विभाग, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अधिकारी शामिल हुए। देश में सात चरणों वाले होने वाले चुनाव में से छह चरण अभी बाकी हैं।

चुनाव आयोग और मौसम विभाग गर्मी से निपटने के लिए तैयार
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मौसम विज्ञान के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा, “आईएमडी भारत के चुनाव आयोग के साथ लगातार संपर्क में है। मौसमी पूर्वानुमानों के साथ, हम मासिक, सप्ताह-वार और रोजमर्रा के पूर्वानुमान कर रहे हैं और उन्हें गर्मी के बारे में पूर्वानुमान दे रहे हैं।” हम उन स्थानों के बारे में ईसीआई, इनपुट और पूर्वानुमान प्रदान कर रहे हैं जहां विभिन्न चरणों में चुनाव होने वाले हैं।” वहीं इस बैठक में आवश्यक दवाओं, तरल पदार्थ, आइस पैक, ओआरएस और पीने के पानी के संदर्भ में स्वास्थ्य क्षेत्र में तैयारियों की समीक्षा की गई।

पीएम मोदी ने भी गर्मी से निपटने के लिए की थी बैठक
इससे पहले, 11 अप्रैल को पीएम मोदी ने आगामी गर्मी के मौसम की तैयारियों की समीक्षा के लिए एक बैठक की अध्यक्षता की थी। पीएम को आगामी गर्म मौसम (अप्रैल से जून) के पूर्वानुमान सहित अप्रैल से जून 2024 की अवधि के लिए तापमान दृष्टिकोण के बारे में जानकारी दी गई। देश के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान सामान्य से ऊपर रहने की संभावना है, विशेष रूप से मध्य भारत और पश्चिमी प्रायद्वीपीय भारत में इसकी उच्च संभावना है।

2024 के गर्मी का पूर्वानुमान
बता दें कि कुछ समय पहले ही आईएमडी ने (अप्रैल से जून) 2024 के गर्मी के मौसम के लिए एक अद्यतन मौसमी आउटलुक जारी किया था, जिसमें उसने कहा था, देश के अधिकांश हिस्सों में सामान्य से अधिकतम तापमान रहने की संभावना है, विशेष रूप से मध्य भारत और पश्चिमी प्रायद्वीपीय भारत में इसकी उच्च संभावना है।

IMD जारी की एडवाइजरी
आईएमडी महानिदेशक, ने कहा, “इस गर्म मौसम के मौसम के दौरान पश्चिमी हिमालय क्षेत्र, पूर्वोत्तर राज्यों और उत्तरी ओडिशा के कुछ हिस्सों में सामान्य से सामान्य से नीचे अधिकतम तापमान होने की संभावना है।” हीटवेव के प्रभाव के बारे में बात करते हुए, आईएमडी महानिदेशक ने कहा कि हीटवेव के दौरान बढ़ा हुआ तापमान जोखिम पैदा करता है, विशेष रूप से बुजुर्गों, बच्चों और पहले से मौजूद स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों के लिए, जो गर्मी से संबंधित बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं।
इसके साथ ही उन्होंने कहा, “लंबे समय तक अत्यधिक गर्मी रहने से डिहाइड्रेशन हो सकता है और पावर ग्रिड और परिवहन प्रणालियों जैसे बुनियादी ढांचे में तनाव हो सकता है। इन चुनौतियों का समाधान करने के लिए, अधिकारियों को शीतलन केंद्रों तक पहुंच प्रदान करने, गर्मी संबंधी सलाह जारी करने और शहरी गर्मी द्वीप को कम करने के लिए रणनीतियों को लागू करने जैसे सक्रिय कदम उठाने चाहिए।

कब है अगला चुनाव
लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान शुक्रवार को संपन्न हुआ, जिसमें 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 60 प्रतिशत मतदान हुआ। बता दें कि दूसरा चरण 26 अप्रैल को होगा और बाकी चरण तदनुसार 7 मई, 13 मई, 20 मई, 25 मई और 1 जून को होंगे। 2019 का पिछला आम चुनाव भी सात चरणों में हुआ था।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 1865829
आखरी अपडेट: 22nd May 2024