प्रतिक्रिया | Saturday, July 13, 2024

26/06/24 | 10:34 pm | Cleanliness survey

आवास और शहरी मामलों का मंत्रालय जुलाई के पहले सप्ताह से स्वच्छता सर्वेक्षण

आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय स्वच्छ सर्वेक्षण 2024 के 9वें संस्करण तहत शहर में जमा होने वाले कूड़ा-कचरा के प्रबंधन को लेकर टेलीफोन के माध्यम से फीड बैक लेगा। इसके बाद व्यापक सर्वेक्षण के कूड़ा जमा होने वाले चिन्हित स्थानों का सर्वेक्षण होगा। आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के मुताबिक फीड बैक लेने की प्रक्रिया जुलाई के पहले से सप्ताह शुरू होगी। व्यापक सर्वेक्षण का काम सितंबर-अक्टूबर से शुरू होगा। आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने आज बुधवार 26 जून को यह जानकारी साझा की है।

शहरों में प्रतिदिन करीब 150,000 टन कचरा उत्पन्न होता है

मंत्रालय के मुताबिक देश के शहरों में प्रतिदिन 150,000 टन कचरा उत्पन्न करता है। बढ़ते शहरीकरण और जीवनशैली में बदलाव के कारण नगर निगम के ठोस कचरे में काफी वृद्धि हो रही है। ऐसे में अनुमान लगाया गया है कि शहर में लगभग 30 से 40 प्रतिशत कचरा हाउसिंग सोसाइटी, स्कूल, कॉलेज, संगठन, इवेंट लोकेशन, होटल, रेस्टोरेंट द्वारा उत्पन्न होता है।

मंत्रालय के मुताबिक सर्वेक्षण का उद्देश्य प्रतिदिन सौ किलोग्राम कचरा उत्त्पन्न करने वाले संस्थानों के समीप कंपोस्टिंग इकाइयां स्थापित करके खाद और बायोगैस का उत्पादन करने के लिए जैव-निम्नीकरणीय कचरे का वैज्ञानिक प्रसंस्करण सुनिश्चित करने की आवश्यकता है, जिसका लक्ष्य शहरों को कचरा-मुक्त बनाया जा सके।

मंत्रालय के मुताबिक शहरी स्थानीय निकाय (यूएलबी) छोटे स्थानीय निकाय हैं जो निर्दिष्ट जनसंख्या वाले शहर या कस्बे का प्रशासन या शासन करते हैं। इनके अधिकार क्षेत्र के भीतर हाउसिंग सोसाइटी, स्कूल, कॉलेज, संगठन, इवेंट लोकेशन, होटल, रेस्टोरेंट द्वारा उत्पन्न कचरे का संग्रहण, परिवहन, प्रसंस्करण और अंतिम निपटान करना है।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 4791307
आखरी अपडेट: 13th Jul 2024