प्रतिक्रिया | Wednesday, June 19, 2024

06/06/24 | 3:54 pm | vishva hindi parishad

विश्व हिन्दी परिषद का उद्देश्य हिन्दी को राष्ट्र और विश्व भाषा बनाना

विश्व हिन्दी परिषद की बैठक में हिन्दी को राष्ट्र और विश्व भाषा बनाने के संकल्प को दोहराया गया। हरियाणा भवन में आयोजित इस बैठक की अध्यक्षता दिल्ली विश्वविद्यालय से संबद्ध अदिति महाविद्यालय की प्रोफेसर डॉ. संध्या वात्स्यायन ने की। बैठक में 25-26 जुलाई को होने वाले ‘श्री अरविन्द’ से संबंधित सम्मेलन की रूप-रेखा तैयार की गई।

विश्व हिन्दी परिषद के राष्ट्रीय महासचिव डॉ. विपिन कुमार ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय देश का अग्रणी विश्वविद्यालय है। इस नाते राष्ट्र उत्थान से संबंधित गतिविधियों में दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों का बढ़-चढ़ कर भाग लेना महत्वपूर्ण मायने रखता है। विश्व हिन्दी परिषद के पदाधिकारियों और कार्यकारिणी सदस्यों की इस बैठक में परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष देवी प्रसाद मिश्र संगठन विस्तार से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदुओं को रखा।

हिन्दी एवं अन्य भारतीय भाषाओं को जन आंदोलन बनाना परिषद का लक्ष्य

मिश्र ने कहा कि विश्व हिन्दी परिषद का उद्देश्य हिन्दी एवं अन्य भारतीय भाषाओं का प्रयोग तथा हिन्दी को अन्य भारतीय भाषाओं के समन्वय से आगे बढ़ाना है। कम से कम एक लाख लोगों से जुड़ना तथा हिन्दी को राष्ट्र एवं विश्व भाषा बनाना साथ अन्य भारतीय भाषाओं के उत्थान एवं विकास के लक्ष्य को जन आंदोलन बनाना परिषद का उद्देश्य है। बैठक में प्रो. ममता वालिया, प्रो. प्रदीप, प्रो. हंसराज सुमन, प्रो. शशि, डॉ. दीनदायल, डॉ. प्रतिभा राणा, डॉ. प्रवीण, कौशल पांडे, संजीत (शोधार्थी), अभिलाष (शोधार्थी), श्रीकान्त, प्रतिष्ठा,पारुल आदि ने प्रमुखता से अपनी बात रखी।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 3744057
आखरी अपडेट: 19th Jun 2024