प्रतिक्रिया | Wednesday, April 24, 2024

14/12/23 | 9:50 am

WISE-KIRAN ने 13 बेरोजगार महिला वैज्ञानिकों को 1.93 करोड़ रुपये की सहायता दी : डॉ. जितेंद्र सिंह

भारत सरकार ने अनुसंधान गतिविधियों में महिला वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित करने के लिए कई सुधारात्मक कदम उठाए हैं। वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए विज्ञान और इंजीनियरिंग में महिलाओं के लिए किरण (WISE-KIRAN) योजना के लिए रु. 131.20 करोड़ का बजट आवंटित किया गया हैं। यह जानकारी केंद्रीय विज्ञान मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में एक लिखित उत्तर में दी।

 डॉ. जितेंद्र सिंह ने बताया कि 'महिला वैज्ञानिक योजना' विज्ञान और इंजीनियरिंग में महिलाएं-किरण (WISE-KIRAN) योजना के प्रमुख कार्यक्रमों में से एक है जो महिला वैज्ञानिकों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी (S&T) के क्षेत्र में अनुसंधान करियर बनाने के अवसर प्रदान करती है, विशेष रूप से उन जिनके करियर पर ब्रेक लगा था। इस योजना के तहत पिछले पांच वर्षों में 13 बेरोजगार महिला वैज्ञानिकों को 1.93 करोड़ रुपये की सहायता से लाभान्वित किया गया है। देश में वर्ष 2018 से अब तक लगभग 1962 महिला वैज्ञानिक महिला वैज्ञानिक योजना के तहत लाभान्वित हुई हैं। 

रिसर्च एंड डेवलपमेंट में महिलाओं की कम भागीदारी 

दरअसल रिसर्च एंड डेवलपमेंट में महिलाओं की कम भागीदारी काफी कम है। इसमें विवाह, पारिवारिक जिम्मेदारी, जीवनसाथी की स्थानांतरणीय नौकरी के कारण स्थानांतरण आदि जैसे पारिवारिक मुद्दे शामिल हैं। सामाजिक रूढ़िवादिता और पूर्वाग्रह सहित विभिन्न कारकों की वजह से इन क्षेत्रों में महिलाओं का प्रतिनिधित्व काफी कम रहा है। 

इन कारणों में उच्च अध्ययन से ड्रॉपआउट, करियर ब्रेक, वैज्ञानिक नौकरियों के लिए अधिक उम्र और कार्यस्थल से लंबे समय तक अनुपस्थिति या यहां तक ​​कि नौकरी से इस्तीफा देना भी शामिल है।
 
क्यों जरुरी है महिला वैज्ञानिक ?

विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में महिला सशक्तिकरण और लैंगिक समानता को बढ़ावा देना अत्यंत जरूरी है। इन क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी को प्रोत्साहित करना और समर्थन करना वैज्ञानिक उन्नति और नवाचार के लिए आवश्यक है। महिलाओं को सशक्त बनाकर और लैंगिक समानता को बढ़ावा देकर, अधिक समावेशी, विविध और मजबूत वैज्ञानिक पारिस्थितिकी तंत्र (scientific ecosystem) विकसित किया जा सकता है।

सरकार दे रही महिलाओं को अवसर 

जो महिलाएं मातृत्व और पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण अपने करियर में ब्रेक ले रही हैं और अब वो वापस मुख्यधारा में लौटने की इच्छा रखती हैं। उनके लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तत्वावधान में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) ने 27-57 वर्ष की आयु के बीच महिला वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों के लिए योजना शुरू की। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी भागीदारी बढ़ाने के लिए जीवन के सभी क्षेत्रों की महिलाओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक समर्पित योजना 'विज्ञान और इंजीनियरिंग में महिलाएं-किरण (WISE-KIRAN)' है। 

दोबारा शुरू कर सकती हैं करियर 

WISE-KIRAN योजना विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से महिलाओं को उनकी वैज्ञानिक यात्रा में आने वाली विभिन्न चुनौतियों का समाधान करती है। जो महिलाएं इन सरकारी योजनाओं के माध्यम से वापस अपने करियर को शुरू करना चाहती हैं उनके लिए यह योजनाएं वरदान साबित हो सकती हैं। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए इससे संबंधित वेबसाइट (https://dst.gov.in/scientific-programmes/wise-kiran) को भी विजिट कर सकते है।  

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 930706
आखरी अपडेट: 24th Apr 2024