प्रतिक्रिया | Tuesday, April 23, 2024

08/01/24 | 10:05 am

सर्दी के सितम के बीच बारिश की संभावना, इन राज्यों में ऑरेंज अलर्ट

उत्तर भारत में ठंड अपने चरम पर है। ऐसे में कई राज्यों में ऑरेंट अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने दिल्‍ली, पंजाब, हरियाणा, उत्‍तर प्रदेश और बिहार के कुछ भागों के लिए ऑरेन्‍ज अलर्ट जारी किया है। विभाग के अनुसार इन इलाकों में कड़ाके की ठंड जारी रहने की संभावना है। 

इन इवाकों में बारिश का अनुमान
मौसम विभाग के मुताबिक अगले 4-5 दिन तक तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, केरल और लक्षद्वीप के कुछ इलाक़ों में हल्‍की से सामान्‍य वर्षा का अनुमान है। ऐसे में मछुआरों को तमिलनाडु के तटीय इलाकों, बंगाल की खाडी के दक्षिण-पश्‍चिमी क्षेत्रों और मन्‍नार की खाडी में 55 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने के कारण समुद्र में ना जाने की चेतावनी दी है। क्षेत्रीय मौसम विभाग ने बताया कि कल सुबह साढे आठ बजे और आज सुबह साढे पांच बजे के बीच पुद्दुचेरी में 96 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।

9 से 11 के बीच हल्की से मध्यम वर्षा की संभावना 

वहीं उत्तर प्रदेश में कई दिनों बाद रविवार को धूप निकली, लेकिन सर्दी से बहुत अधिक राहत नहीं मिल सकी। मौसम विभाग का कहना है कि पहाड़ों पर पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। इसके साथ ही अरब सागर में बने चक्रवात और बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के मिलन से आगामी दिनों गरज चमक के साथ बारिश के आसार बनते दिख रहे हैं। ऐसे में शीतलहर का प्रकोप तेजी से बढ़ेगा और तापमान में भी तेजी से गिरावट होगी। मौसम पूर्वानुमान के अनुसार आसमान में हल्के से मध्यम बादल छाए रहने के कारण 9 से 11 के मध्य तेज हवाओं, गरज़-चमक एवं ओलावृष्टि के साथ हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। इसके साथ ही प्रातःकाल एवं रात्रि के समय शीत लहर व घने कोहरा छाये रहने के आसार हैं।

फिलहाल सर्दी से राहत नहीं 
मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक लक्षद्वीप पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। लक्षद्वीप पर बने चक्रवाती परिसंचरण से विदर्भ तक एक ट्रफ रेखा बनी हुई है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। एक ट्रफ रेखा दक्षिण गुजरात से पश्चिमी उत्तर प्रदेश पर चक्रवाती परिसंचरण तक फैली हुई है। एक ट्रफ रेखा दक्षिण श्रीलंका से लेकर दक्षिण आंध्र प्रदेश तट तक दक्षिण-पश्चिमी बंगाल की खाड़ी से होते हुए गुजर रही है। आठ जनवरी से एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ उत्तर पश्चिम भारत को प्रभावित करने की संभावना है। ऐसे में फिलहाल उत्तर प्रदेश में लोगों को सर्दी से राहत नहीं मिलेगी और गरज चमक के साथ हल्की बारिश के आसार है। इससे सिहरन भरी सर्दी या यूं कहे कि शीतलहर का प्रकोप तेजी से बढ़ेगा।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 900933
आखरी अपडेट: 23rd Apr 2024