प्रतिक्रिया | Wednesday, May 29, 2024

09/04/24 | 11:57 am | Meity

MeitY और NEGD ने साइबर सुरक्षित भारत के लिए अधिकारियों के गहन प्रशिक्षण कार्यक्रम का 43वां बैच आयोजित किया

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) ने साइबर सुरक्षित भारत पहल के अंतर्गत मुख्य सूचना सुरक्षा अधिकारियों के गहन प्रशिक्षण कार्यक्रम का सोमवार से 43वां बैच आयोजित किया। कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में एमईआईटीवाई, एनईजीडी और आईआईपीए के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। डीप-डाइव प्रशिक्षण का उद्देश्य विशेष रूप से सीआईएसओ को साइबर हमलों को व्यापक रूप से और पूरी तरह से समझने के लिए शिक्षित और सक्षम करना है। इसके अतिरिक्त सुरक्षा की नवीनतम तकनीकों में आवश्यक अनुभव प्राप्त करना और बड़े पैमाने पर व्यक्तिगत संगठनों और नागरिकों को एक लचीले ई-बुनियादी ढांचे के लाभों की जानकारी देना है।

साइबर हमलों से निपटने के लिए भविष्य के लिए तैयार होने में सक्षम बनाने का मिशन

एमईआईटीवाई (MeitY) ने एक प्रेस रिलीज में जानकारी देते हुए बताया कि मंत्रालय की ‘साइबर सुरक्षित भारत’ पहल की संकल्पना साइबर अपराध के बारे में जागरूकता फैलाने और सभी सरकारी विभागों में मुख्य सूचना सुरक्षा अधिकारियों (सीआईएसओ) और फ्रंटलाइन आईटी अधिकारियों का क्षमता निर्माण करने, साइबर अपराध के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए पर्याप्त सुरक्षा उपाय सुनिश्चित करने, संगठनों को अपने डिजिटल बुनियादी ढांचे की रक्षा करने और साइबर हमलों से निपटने के लिए भविष्य के लिए तैयार होने में सक्षम बनाने के मिशन के साथ की गई थी। राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिवीजन (NEGD) ने अपनी क्षमता निर्माण योजना के तहत, असम, जम्मू और कश्मीर, गुजरात, केरल, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के प्रतिभागियों के साथ 8 से 12 अप्रैल तक नई दिल्ली स्थित भारतीय लोक प्रशासन संस्थान में 43वें सीआईएसओ डीप-डाइव प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया है।

कार्यक्रम साइबर सुरक्षा के बारे में समग्र जानकारी प्रदान करता है

इस कार्यक्रम का प्रयास प्रतिभागियों को साइबर रक्षा और सुरक्षा पर संवेदनशील और उसके अनुकूल बनाना है। यह नागरिकों को विभिन्न सरकारी सेवाओं की एकीकृत डिलीवरी के लिए डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की सुविधा प्रदान करता है। यही नहीं, कार्यक्रम साइबर सुरक्षा के बारे में समग्र जानकारी और ज्ञान भी प्रदान करता है ताकि सरकारी विभाग अपनी साइबर स्वच्छता, सुरक्षा और रक्षा पर ध्यान दे सकें।

क्या है डीप-डाइव प्रशिक्षण का उद्देश्य ?

बता दें कि डीप-डाइव प्रशिक्षण का उद्देश्य विशेष रूप से सीआईएसओ को साइबर हमलों को व्यापक रूप से और पूरी तरह से समझने के लिए शिक्षित और सक्षम करना, सुरक्षा की नवीनतम तकनीकों में आवश्यक अनुभव प्राप्त करना और बड़े पैमाने पर व्यक्तिगत संगठनों और नागरिकों को एक लचीले ई-बुनियादी ढांचे के लाभों की जानकारी देना है। प्रशिक्षण में कानूनी प्रावधानों का समग्र दृष्टिकोण प्रदान करने, सीआईएसओ को साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में नीतियां बनाने और ठोस साइबर संकट प्रबंधन योजनाएं बनाने में सक्षम बनाने पर भी ध्यान केंद्रित किया गया।

2018 में हुआ था आरंभ

ज्ञात हो कि 2018 में शुरू किया गया, सीआईएसओ प्रशिक्षण सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) मॉडल के तहत सरकार और उद्योग संघ के बीच अपनी तरह की पहली पर्टनरशिप है। जून 2018 से अप्रैल 2024 तक, एनईजीडी ने 1,604 से अधिक सीआईएसओ और फ्रंटलाइन आईटी अधिकारियों के लिए सीआईएसओ गहन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के 43 बैच आयोजित किए हैं।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 2181713
आखरी अपडेट: 29th May 2024