प्रतिक्रिया | Monday, July 22, 2024

स्पाइसजेट की सभी उड़ानें 14 जुलाई तक टर्मिनल 3 से होंगी संचालित, यात्रियों के लिए एडवाइजरी 

स्पाइसजेट एयरलाइंस की सभी उड़ानें 14 जुलाई, 2024 तक दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल-3 से संचालित होंगी। स्पाइसजेट ने अपने यात्रियों के लिए एडवाइजरी जारी की है। 
 
स्पाइसजेट ने ट्रैवल एडवाइजरी की जारी

स्पाइसजेट ने ट्रैवल एडवाइजरी में बताया कि 14 जुलाई 2024 तक दिल्ली एयरपोर्ट से जाने और आने वाली उसकी सभी उड़ानें टर्मिनल-3 से संचालित होंगी।   
 
पर्याप्त यात्रा समय सुनिश्चित करें और अपनी उड़ान पर नजर रखें

एयरलाइन ने कहा कि सभी यात्रियों को उनके पंजीकृत संपर्क पर एसएमएस और ईमेल पर आवश्यक जानकारी दे दी गई है। कंपनी ने यात्रियों से अनुरोध किया है कि वे पर्याप्त यात्रा समय सुनिश्चित करें और अपनी उड़ान पर नजर रखें।

टर्मिनल-1 बंद होने से टी-2 और टी-3 से फ्लाइट्स का हो रहा संचालन

राजधानी दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट (आईजीआई) के टर्मिनल-1 पर हादसे के बाद से अभी तक हालात सामान्य नहीं हैं। ऐसे में टर्मिनल-1 फिलहाल बंद होने से अब बाकी टी-2 और टी-3 पर बोझ बढ़ गया है, जहां से अब ज्यादा फ्लाइट्स का संचालन हो रहा है। 
 
आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि बीते सप्ताह भारी बारिश के कारण पुराने टर्मिनल-1 की छत गिर गई थी। ऐसे में सभी उड़ानों को टर्मिनल 2 और 3 से संचालित किया जा रहा है। बताना चाहेंगे इस हादसे के बाद मामले का संज्ञान लेते हुए नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने एयरलाइन्स के लिए खास एडवाइजरी भी जारी की थी जिससे यात्रियों को होने वाली असुविधा से बचा जा सके। 
 
मंत्रालय ने एयरलाइनों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि टर्मिनल 1 से परिचालन निलंबित होने के बाद दिल्ली आने-जाने वाली उड़ानों के हवाई किराए में कोई असामान्य वृद्धि न हो। इसके साथ-साथ मंत्रालय ने यह बताया कि उसने रद्द की गई उड़ानों का पूरा रिफंड सुनिश्चित करने के लिए एक वार रूम स्थापित किया है।  
 
यात्रियों की बढ़ती संख्या को नियंत्रित करने के किए गए उपाय

केवल इतना ही नहीं, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय के अधिकारियों ने बढ़ते यात्री प्रवाह के मुद्दे के हल के लिए नागरिक उड्डयन मंत्री किंजरापू राममोहन नायडू से मुलाकात की। वहीं एयरपोर्ट पर अतिरिक्त जनशक्ति और एक्स-रे मशीनें तैनात की गई हैं और एयरलाइनों से अनुरोध किया है कि वे उड़ानों को गैर-पीक घंटों में पुनर्निर्धारित करें। दिल्ली हवाई अड्डे पर चार पीक आवर विंडो हैं: सुबह 8-9 बजे, दोपहर 1-2 बजे, शाम 4-5 बजे और रात 8-9 बजे।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली एयरपोर्ट देश का सबसे व्यस्त एयरपोर्ट है जहां प्रतिदिन तकरीबन 1,100 से ज्यादा उड़ानों को संचालन होता है। हाल ही में 8,000 करोड़ रुपये की विस्तार परियोजना का लक्ष्य हवाई अड्डे की क्षमता को बढ़ाकर लगभग 100 मिलियन यात्री प्रति वर्ष करना है। इस परियोजना में टर्मिनल 1 की मौजूदा संरचना को एक नए टर्मिनल में एकीकृत करना भी शामिल है, जो इसकी क्षमता को दोगुना करके 40 मिलियन यात्री प्रति वर्ष कर देगा। (इनपुट-हिंदुस्थान समाचार)
कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 5216211
आखरी अपडेट: 22nd Jul 2024