प्रतिक्रिया | Saturday, July 20, 2024

Paris Olympics 2024: महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ में हिस्सा लेने वाली पहली भारतीय महिला होंगी ज्योति याराजी

 

पेरिस ओलंपिक को महज कुछ दिन ही शेष बचे हैं। सभी भारतीय खिलाड़ी भी पूरी तरह से तैयार है। वहीं इस बार जब सबसे तेज भारतीय बाधा दौड़ खिलाड़ी ज्योति याराजी पेरिस 2024 ओलंपिक में ट्रैक पर उतरेंगी, तो वह एक खास उपलब्धि हासिल करेंगी। ज्योति ओलंपिक में महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ में प्रतिस्पर्धा करने वाली पहली भारतीय महिला होंगी।

 

100 मीटर बाधा दौड़ के लिए अर्हता प्राप्त करने वाली पहली भारतीय
महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ स्पर्धा 1972 से प्रत्येक ओलंपिक का हिस्सा रही है, लेकिन यह पहली बार होगा कि कोई भारतीय एथलीट प्रारंभिक सूची में शामिल होगा। रिलायंस फाउंडेशन की संस्थापक और अध्यक्ष नीता एम. अंबानी ने रिलायंस फाउंडेशन द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के हवाले से कहा, “हमें अपनी रिलायंस फाउंडेशन की एथलीट ज्योति याराजी पर बहुत खुशी और गर्व है, जो ओलंपिक में महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ के लिए अर्हता प्राप्त करने वाली पहली भारतीय बन गई हैं। ज्योति की यात्रा, उनका समर्पण और उनकी अविश्वसनीय उपलब्धि सपनों की शक्ति और अथक परिश्रम का प्रमाण है। वह भारत के युवाओं की भावना, प्रतिभा और लचीलेपन का प्रतीक हैं।”
नीता अंबानी ने कहा, “रिलायंस फाउंडेशन में हम ज्योति और हमारे सभी युवा एथलीटों को हर संभव तरीके से समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम ज्योति और पूरे भारतीय दल को पेरिस खेलों के लिए शुभकामनाएं देते हैं। वे तिरंगे को ऊंचा रखें, क्योंकि वे वैश्विक मंच पर 1.4 अरब भारतीयों के सपनों, उम्मीदों और प्रार्थनाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं।”

 

एशियाई खेलों में दौड़ स्पर्धा में पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय महिला
इस स्पर्धा में मौजूदा राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक ज्योति एशियाई खेलों में महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ स्पर्धा में पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय महिला भी हैं, जहां उन्होंने पिछले साल रजत पदक जीता था। वह 13 सेकंड के निशान से नीचे आने वाली एकमात्र भारतीय महिला हैं और इस श्रेणी में किसी भारतीय द्वारा दौड़े गए अब तक के सबसे तेज समय का रिकॉर्ड उनके नाम है।

ज्योति का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ समय 12.78 सेकंड है, एक ऐसा निशान जिसे उन्होंने इस साल की शुरुआत में फिनलैंड में मोटोनेट जीपी में अंतिम बाधा से कड़ी टक्कर के बावजूद हासिल किया था। उन्होंने हाल ही में सीनियर अंतरराज्यीय एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी स्वर्ण पदक जीता और भारतीय धरती पर अपना अपराजेय अभियान जारी रखा।

कॉपीराइट © 2024 न्यूज़ ऑन एयर। सर्वाधिकार सुरक्षित
आगंतुकों: 5142522
आखरी अपडेट: 20th Jul 2024